Thursday

News Paper के फर्ज़ी Advertisements

News Paper के फर्ज़ी Advertisements

News Paper के फर्ज़ी Advertisements
News Paper के फर्ज़ी Advertisements

अभी दो महिने पहले दिल्ली के लक्ष्मी नगर मे बैंक मे job लगवाने के नाम पर कई लड़्के-लड़्कियो के फर्ज़ि Interview करवाये गये। बकायदा उनसे computer पर online test लिया गया, कुछ को यह भी कहा गया कि आप select नही हुए है। Interview भी तीन-तीन बार लिया गया अलग-अलग दिन। जिससे सभी को विश्वास हो गया कि अब तो नौकरी मिल ही जायेगी। इन Interview और Registration के बहाने किश्तो मे 12,000/- से 15,000/- तक जमा करवा लिया गया। आखिरी Interview मे जो select हो गये थे उन्हे कहा गया कि आपके पास एक हफ्ते मे बैंक से letter आ जायेगा। जब एक हफ्ते से ज्यादा हो गया और कोई letter नहि आया तो लोगो ने फोन करना शुरु किया पर सभी नम्बर बन्द थे। office मे पहुंचे तो ताला लगा मिला। पता किया गया तो यह पता चला कि कुछ हफ्तो पहले ही यह office किराये पर लिया गया था। पुलिस मे कम्प्लेंट लिखायी गयी। पर कोई फायदा नहि हुआ। उन्होने दिल्ली की ही पता नहि कितनी जगह पर ऐसे ही लोगो से पैसा लूटा होगा। दिल्ली के अलावा कितने शहरो मे अपना जाल फैलाया हुआ होगा। क्या उस office के मालिक पर केस नही किया जा सकता था कि उसने office किराये पे दिया तो police verification या agreement क्यो नहि किया। पर – पर – पर अगर कोर्ट मे केस कर भी दिया तो जितने पैसे दिये है उतने तो वकील के पास चले जायेंगे।
एक वक़्त था जब किसी भी बेरोज़गार को नौकरी की तलाश होती थी, वो newspaper मे आये advertisements देखता था और अपने अनुसार नौकरी के advertisement पर निशान लगाकर उस पर दिये address पर पहुंच जाता था| वह नौकरी के advertisements किसी Office, Factory या किसी Company के होते थे, और उस बेरोज़गार को उसकी पढ़ाई, अनुभव के अनुसार काम मिल जाता था|
यह वक़्त अब से लगभग दस साल पहले तक था
 अब वक़्त वो आ गया है जब हर अधिक बिकने वाले या यह कह सकते हैं कि जो News Paper अपने नाम से बिकते हैं जैसे – Hindustan, Navbharat Times ये चाहे Hindi का हो या English का, इन मे एक भी ऐसा advertisement नही होता जिससे किसी को नौकरी मिल जाये ये सभी registration के नाम पर पैसा खाने के लिये advertisement देते हैं

अब advertisement होते हैं ! पर सिर्फ security के नाम पर पैसा बटोरने के लिये। पिछ्ले एक साल से मैं वो advertisement देख रहा हू जो रोज़ ही छ्पते हैं। इन advertisements को देख कर मुझे हैरानी हुई कि रोज़ advertisement देकर ये कितने लोगो को job दे रहे हैं। एक ही तरह की नौकरी के लिये रोज़ advertisement क्यो? 
News Paper के फर्ज़ी Advertisements
News Paper के फर्ज़ी Advertisements

News Paper मे एक column Part-time jobs का होता है। इस column मे आप एक ही तरह के advertisement को अलग-अलग नाम से छ्पा हुआ देख सकते है। और तो और इन सभी advertisements मे दिया होता है कि आप एक दिन मे Part-time काम करके 10,000/- से 25,000/- तक कमा सकते है। ऐसा क्या काम है कि इतना पैसा वो भी Part-time job मे, यह सोचकर मैने एक advertisement मे दिये हुए mobile no. पर फोन कर दिया। फोन पर मुझ से पुछा गया कि आप कहॉ रहते हो, आपका नाम क्या है? फिर मेरी age, उसके बाद जो काम मुझे बताया गया उसे सुन कर मै हैरान रह गया कि इस तरह के काम के लिये इतने सारे advertisements और वो भी रोज़। मुझे कहा गया कि आपको high profile ladies की मसाज करनी है और अगर वो कहे तो उनके साथ relation बनाने है। एक दुसरे advertisement मे एक मोबाईल नम्बर दिया हुआ था, जिस पर ‘HELLO’ टाईप करके WhatsApp करना था। ‘HELLO’ टाईप करके जब मैने WhatsApp किया तो उसमे भी मेरी Age, Name और् Location पुछी गयी, साथ ही मेरी एक photo भी WhatsApp करने को कहा गया। मुझे वही काम बताया गया। काम करना हो तो उसी मोबाईल नम्बर पर 1500/- रुपये Paytm करने को कहा गया।


क्या कोई भी नहीं है जो इस तरह के बेहुदा advertisements को रोक सके। हमारे देश मे बेरोजगारो की कमी नहीं है? पर इस तरह के advertisements देकर उनके emotions के साथ क्यो खेला जा रहा है? कहाँ है कानून? कहते है कि देह-व्यापार कानूनन अपराध है। फिर क्यो घर-घर मे जाने वाले News Paper मे खुले आम इसके लिये advertisements दे रहे हैं? क्या News Paper छापने वालो को नहीं पता कि यह advertisements किस लिये हैं?
News Paper के फर्ज़ी Advertisements
News Paper के फर्ज़ी Advertisements


अब और सुनिये इस काम को भी करने के लिये वह लोग पहले आप से 500/- से 1500/- तक अपने किसी अकाउंट मे या Paytm अकाउंट मे जमा करवाने को कहते हैं। यह उनकी Registration fees होती है। जरा सोचिये अगर कोई पैसो के लालच मे आकर यह 500/- से 1500/- रुपये जमा करवा देता है, तो उसके बाद क्या guarantee है कि उसके पास फिर कोई फोन आयेगा?


अगर आ भी गया तब भी वो जो काम करेगा कानून के अनुसार वह गलत है। और अगर कोई फोन नहीं आया तो वह कुछ नहीं कर सकता, वह पुलिस के पास नहीं जा सकता क्युंकि यह लोग फोन पर ही इतने स्पष्ट शब्दो मे समझा देते है कि आपको काम क्या करना क्या है, जो आप पुलिस को नहीं बता सकते। इसी डर का यह लोग फायदा उठाते हैं। 
News Paper के फर्ज़ी Advertisements
News Paper के फर्ज़ी Advertisements


यह तो हो गई Part-time job की बात, अगर आप Full-time job के advertisements देखे तो उनसे contact करने पर वो आपको किसी metro station या आस-पास किसी जगह पर पहुंच कर फोन करने को कहते हैं। क्यो ? उनका अपना office है तो सीधा office मे क्यो नही जा सकते? इसलिये कि एक साथ दो-तीन लोग ना पहुंच जाये। अगर एक समझदार निकला और उनके झासे मे नहीं आया तो बाकि भी हाथ से निकल जायेंगे। ये लोग अपना Ratio बना कर रखते है। 10 मे से 1 भी फंस गया तो ठीक है। एक अगर office मे है तो दुसरे को मत आने दो। 

दोस्तो हमे News Paper मे छपने वाले फर्ज़ि advertisements से सबको बचाना है। अगर आप सहमत है तो इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे।

1 comment: